Thursday, 26 December 2013

.......अश्क़ों की हमराज़ बस ये रात

रो ले इस रात के वीराने में जितना भी तुझे रोना है


सहला ले जख्मो को अपने लेट कर इस खामोश रात की गोद में

भिगोले आंसुओं से अपने ,रात के दामन को जितना भिगोना है

आँखों पर लगी बंदिशे हटा कर

बह जाने दे दर्द को अपने, तोड़ कर बाँध सारे सब्र के

निकल जाने दे उस चीख को जो दबी है कब से सीने में तेरे

हो ले बेजार तुझे आज जितना होना है

पर याद रख बस आज की ये रात ही तेरी हमदर्द ,हमराज़ है

तो लेकर अपने दिल के तमस,खोकर अंधेरों में हो ले दूर

इस बेदर्द दुनिया से जितना तुझे होना है.……

क्यूंकि फिर सुबह होते ही, कर सशकत खुद को

पकड़ उजालो का हाथ

कल फिर इस दुनिया की भीड़ में ,तुझे हंस कर शामिल होना है



                                                                                            - सोमाली

6 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (28-12-2013) "जिन पे असर नहीं होता" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1475 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
  2. bahut bahut dhanyavaad sir....

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बेहतरीन भावपूर्ण रचना...
    http://mauryareena.blogspot.in/

    ReplyDelete
  5. aap sab ka bahut bahut dhanyavaad

    ReplyDelete