Tuesday, 10 January 2012

बनाती- बिगाडती लकीरें







लकीरों से बनी एक तस्वीर,
समेटे होती है न जाने कितने भाव,कितने जज्बात अपने अन्दर

एक लकीर मिटने से बदल जाते हैं, सारे  अर्थ और जज्बात,

लकीर से ही होती है शुरुआत होने की साक्षर ,
जब लकीरों को मिलाकर बनता है पहला अक्षर

हाथों की लकीरों में उलझ जाते हैं कितने नसीब
बदल जाते हैं कितनी ही जिंदगियो के समीकरण
इन लकीरों में विश्वास और अविश्वास के कारण

एक लकीर कर देती है टुकड़े उस आँगन के
जो था कभी साँझा संसार,प्यार की चाशनी में पगे थे रिश्ते
सुख-दुःख के थे जहाँ सब भागिदार ,
अब कोई किसी के सुख-दुःख का नहीं साझीदार ,
जैसे एक ही घर रहते हो दो भिन्न परिवार

एक लकीर ने विभाजित कर दिया  एक देश को
खीच के सरहद ,कर दिए हिस्से, जमीन के साथ इंसानों के भी,
कर भाई को भाई  से जुदा,
बना दिया भगवान को यहाँ इश्वर वहां खुदा  

बंटी हुई है धरा समुचि इन्ही लकीरों से सरहदों में
बंधा है संसार जैसे इन्ही लकीरों की हदों में

बेमिसाल सी शक्ति लिए ये लकीरें
 बनाती भी है, और मिटाती भी
निर्भर  हम पर करता  है, की कहाँ खीचनी है यह  लकीर
                                                    
                                                     -सोमाली


23 comments:

  1. बेमिसाल सी शक्ति लिए ये लकीरें
    बनाती भी है, और मिटाती भी
    निर्भर हम पर करता है, की कहाँ खीचनी है यह लकीर

    बेमिशाल और बेहतरीन प्रस्तुति है आपकी.
    हमें लकीर का फ़कीर नही बनना चाहिये.

    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है,Somali जी.

    ReplyDelete
  2. एक लकीर क्या क्या कर देती है सही खाका खींचा है ... सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. lakeeron se sunder rachna ban gayi..................

    ReplyDelete
  4. बेमिसाल सी शक्ति लिए ये लकीरें
    बनाती भी है, और मिटाती भी
    निर्भर हम पर करता है, की कहाँ खीचनी है यह लकीर
    wah.....bahot achcha likhi ho......

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  6. आपकी कविता अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट "लेखनी को थाम सकी इसलिए लेखन ने मुझे थामा": पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद। .

    ReplyDelete
  7. Is lakeer ne kitno ko raja to kitno ko fakeer bana diya,
    kisi ko bulandiyon par pahuchaya to kisi ka jameer gira diya.
    Jin lakeeron se badal sakti hain is jamane ki takdiren,
    un lakeeron ko logo ne majhab ki diwaar bana diya.
    Ek lakeer par ham bhi chale the unki diwangi me,
    par bewfai ne unki hame lakeer ka fakeer bana diya........

    Bahut hi sundar tarike se aapne sabdon se lekar sarhadon tak ki kahani bayan ki hai.....

    Jai hind jai bharat

    ReplyDelete
  8. बेमिशाल और बेहतरीन प्रस्तुति| धन्यवाद।

    ReplyDelete
  9. बहुत सहज ढंग से की गई प्रस्तुति ....
    लकीर के माध्यम से बटवारे का दर्द झेलते अपने परिवार और अपना देश ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  12. बंटी हुई है धरा समुचि इन्ही लकीरों से सरहदों में
    बंधा है संसार जैसे इन्ही लकीरों की हदों में ... एक लकीर कई रंगों का आह्वान करती है

    ReplyDelete
  13. aap sab ka bahut bahut dhanyavad

    ReplyDelete
  14. बहुत सुंदर प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट " हो जाते हैं क्यूं आद्र नयन पर ": पर आपका बेसब्री से इंतजार रहेगा । धन्यवाद। .

    ReplyDelete
  15. निर्भर हम पर करता है, की कहाँ खीचनी है यह लकीर

    ak prernadayee prstuti .......lakeeron ki adbhud vyakhya me ak sarthak sandesh mila ....badhai ke sath hi abhar.

    ReplyDelete
  16. पढ़ रहा हूँ ...समझ रहा हूँ ..सोच रहा हूँ
    गहन ...मर्मस्पर्शी ...
    आपको वसंत पंचमी की ढेरों शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  17. Nice Blog , Plz Visit Me:- http://hindi4tech.blogspot.com ??? Follow If U Lke My BLog????

    ReplyDelete
  18. शुक्रिया सोमाली जी ...?? ब्लॉग पर जानकारी उपयोगी लगे तो प्रशंशक अवश्य बने यहाँ क्लिक करे

    ReplyDelete