Sunday, 19 June 2011

ख़ामोशी सिर्फ ख़ामोशी नहीं होती

 
 
 

 
           लब जब खामोश होते हैं,तब दिल में खयालो का इक तूफ़ान उठा होता है,
           खामोश बैठा शख्स,मनं में उलझते खयालो को सुलझाने में जुटा होता है ,

           मौन है वो लेकिन अंतर्मन विचलित होता है,
           ख़ामोशी को ओढ़े वो दिल ही दिल में चिंतित होता है,

           खामोश रहकर न जाने कितनी बातें वो खुद से कर जाता है,
           खुद से हँसता,रोता कभी खुद शंशय से भर जाता है, 

           खामोश वो कुछ पल के लिए दुनिया से दूर निकल जाता है
           गहरे कहीं अपने ही मनं में उतर जाता है ,

           चलते हुए मनं के गलियारों में न जाने कितने विचारो से टकराता है,
           कहीं यादों में उतरता है तो कहीं खुद के सवालो से कतराता है,

          ख़ामोशी से यादों में फिर एक बार पिछली जिंदगी जी जाता है
          और कभी भविष्य की चिंता में जलता है

           खामोश लम्हों में घुलते हुए बुरी यादो में कुछ गलत फैसले ले लेता है
          और कभी खामोश लम्हों में लिए फैसलों से दुनिया जीत लेता है

          ख़ामोशी सिर्फ ख़ामोशी नहीं होती ख़ामोशी का भी गहन अर्थ होता है
          जब खामोश हो इंसान दुनिया के सामने तब वो सिर्फ खुद से रु-ब रु होता है
                                                            - सोमाली      

11 comments:

  1. खामोश वो कुछ पल के लिए दुनिया से दूर निकल जाता है
    गहरे कहीं अपने ही मनं में उतर जाता है ,
    चलते हुए मनं के गलियारों में न जाने कितने विचारो से टकराता है,
    कहीं यादों में उतरता है तो कहीं खुद के सवालो से कतराता है...

    बहुत सुन्दर और सटीक पंक्तियाँ! बेहद ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है!

    ReplyDelete
  2. अच्छा लिखा है
    मनमोहक !!

    ReplyDelete
  3. ख़ामोशी सिर्फ ख़ामोशी नहीं होती ख़ामोशी का भी गहन अर्थ होता है
    जब खामोश हो इंसान दुनिया के सामने तब वो सिर्फ खुद से रु-ब रु होता है
    खामोश वो कुछ पल के लिए दुनिया से दूर निकल जाता है
    गहरे कहीं अपने ही मनं में उतर जाता है ,

    bahut sunder ...keep writing

    ReplyDelete
  4. jitni khamoshi baat karti hai humse utna to kisi k bolte shabd bhi nahi karte hain.....
    bahut sunder rachna....kabile tareef:)

    ReplyDelete
  5. ख़ामोशी सिर्फ ख़ामोशी नहीं होती ख़ामोशी का भी गहन अर्थ होता है
    जब खामोश हो इंसान दुनिया के सामने तब वो सिर्फ खुद से रु-ब रु होता है
    waah dil ko chu gaye alfaj..........

    ReplyDelete
  6. लब जब खामोश होते हैं,तब दिल में खयालो का इक तूफ़ान उठा होता है,
    खामोश बैठा शख्स,मनं में उलझते खयालो को सुलझाने में जुटा होता है ,
    bahut hi sunder lines..........

    ReplyDelete
  7. सोमाली जी आपके ब्लॉग पर पहली दफा आया हूँ.कायल हूँ आपकी काव्य प्रतिभा से.सुन्दर भावनाओं को सरल और बेहतरीन शब्द दिए हैं आपने.
    आपकी इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.आपका हार्दिक स्वागत है.

    ReplyDelete
  8. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर ... उम्दा लिखा है आपने ... हर पैरा का अपना हि आनंद है... बधाई..

    ReplyDelete
  10. खामोश रहकर न जाने कितनी बातें वो खुद से कर जाता है,
    खुद से हँसता,रोता कभी खुद शंशय से भर जाता है

    somali dil se likhati ho isliye dil ko choo jati ho.sunder rachana badhai ho

    ReplyDelete